नवजात शिशु को डायपर पहनाएं या नहीं। Important information about baby diapers

आजकल नवजात शिशु को डायपर पहनना एक आम बात ह गई है। बच्चों के बार बार बेड गीला करने के समस्या से आसानी से छुटकारा पाने के लिए आजकल लगभग हर parents अपने बच्चों को डायपर पहनाते है। लेकिन सभी को डायपर के बारे में सही से जानकारी नहीं होती। लेकिन आसान से लगनेवाली इस बात की कोई सही जानकारी लेना भी बहुत जरूरी है। अगर सही जानकारी के बिना आप अपने बच्चों के लिए डायपर पहनाती है तो वह चीज आप के बच्चों के लिए harmful भी हो सकती है।

नवजात शिशु को डायपर
नवजात शिशु को डायपर

 

नवजात शिशु के लिए घर के बुजुर्ग हमेशा cotton का कपड़े को Priority देते हैं।और वह हमेशा नवजात शिशु को डायपर पहनाने के खिलाफ होते है। घर के बुजुर्ग हमेशा बोलते है कि newborn बेबी को डायपर नहीं पहनाना चाहिए। यह बात पूरी तरह myth नहीं हो सकती उनकी बातों में थोड़ा logic तो जरूर होता है। लेकिन newborn बेबी को डायपर बिल्कुल ही पहनाने नहीं चाहिए यह बात भी पूरी तरह से सही नहीं है। 

हम नवजात शिशु को डायपर पहना सकते है। इस में कोई परेशानी वाली बात नहीं होती बस हमें कुछ बातों का ध्यान रखना होता है

यह भी पढ़े :– newborn baby ko sardi jukam in hindi।

इस आर्टिकल में जानेंगे...
नवजात शिशु को डायपर पहनाने के पहले हमें काफ़ी care की जरूरत होती है। इस आर्टिकल में हम डायपर से जुड़ी सारी जाणकारी आप तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे। जैसे newborn baby के डायपर के केयर के बारे में जानेंगे। बच्चों को डायपर से होने वाले फायदे और नुकसान के बारे में जानेंगे। बच्चों के डायपर पहनाने के तरीकों को समझेंगे। इस आर्टिकल में हम जानेंगे बच्चों के लिए सही डायपर का चुनाव कैसे करें? क्या सर्दियों के मौसम में बच्चों को डायपर पहनाना safe होता है? और क्या बच्चों को रोज डायपर पहनाना सही है?

नवजात शिशु को डायपर को नकारने के कारण।

जन्म के बाद नवजात शिशु को skin काफ़ी नाजुक होती है। जिस की हमें काफी care करनी पड़ती है। डायपर के वजह से बच्चे को राशेस हो सकतें। इसलिए कई लोगों का मानना यह है कि नवजात शिशु को डायपर के बदले cotton की लंगोट ज्यादा अच्छी और सूटेबल होती है। जिसे बच्चों को रैशेज का खतरा नहीं होता और जब लंगोट गीली या पीली है जाती है तब उसे तुरंत बदलाया जा सकता है। घर में ज्यादा तर बड़े और बुजुर्ग नवजात शिशु के लिए लंगोट को ही priority देते है।

लंगोट से होने वाले फायदे और नुकसान।

पहले हम लंगोट से होनेवाले फायदे और नुकसान के बारे में जान लेते है। लंगोट एक पारंपारिक वस्त्र है जो ऐसा त्रिकोणीय cotton का कपड़ा होता है जिसे बेबी के bumb को cover किया जाता है। जब बच्चे सूसू या पॉटी करते है तब लंगोट में वह आसानी से दिख जाता है और हम तुरंत लंगोट को बदला सकते है। जिसे बच्चे के private part में rashes होने का खतरा नहीं होता। लंगोट air tight नहीं होती इसलिए बच्चे के को आरामदेह लगती है।

लंगोट के नुकसान कि बात करते हैं। जिसे हम नुकसान तो नहीं लेकिन परेशानी कह सकते है। अगर लंगोट में बच्चे ने सूसू पॉटी के दी और हमारा ध्यान नहीं रहा और काफी देर तक बच्चे की लंगोट गीली या पीली है तो बच्चे को सर्दी लगने के chances बढ़ जाते हैं। बच्चे को rashes होने का खतरा बढ़ जाता है। बच्चा अगर बेड पर सोया है तो हमें 3-4 लेयर्स के कपड़े बिछने पड़ते है या प्लास्टिक कवर से बेड को कवर करना पड़ता है। ये कही न कहीं परेशानी का सबब बनता है।

नवजात शिशु को डायपर पहनाने के फायदे।

अगर आप effort कर सकते हो तो आप नवजात शिशु को डायपर पहना सकते हो। नवजात शिशु बार बार सुसू और पॉटी करते है। यदि बच्चे लंगोट में है तो हमें बार बार उनकी लंगोट को बदलना पड़ता है जिस से बच्चे की नींद तुड़ जाती है। उसकी नींद पूरी नहीं हो पाती। डायपर में बच्चा आराम से सो सकता है।

लंगोट में जब बच्चा सूसू करता है तो उस समय वह अपने आसपास के बेड को भी गीला करता है जिस से बच्चे को सर्दी जुकाम होने का खतरा रहता है। डायपर में यह खतरा नहीं होता कुछ देर तक डायपर बच्चे की सूसू या गीलापन सोक लेता है जो हम कुछ घंटों बाद बदल सकते है। जब हम अपने बच्चे को कहीं बाहर लेकर जाते है तब डायपर हमारे लिए काफी मददगार साबित होता है।

बच्चों के डायपर से जुड़ी कुछ बातों का ध्यान रखना है जरूरी।

नवजात शिशु को डायपर पहनाना safe होता है। बशर्ते हमें कुछ बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए। जिसे की हमारा baby डायपर में comfortable रहें और उसे डायपर से rashes या अन्य कोई समस्या ना हो।

  • Right quality of diapers :–जब भी आप अपने बच्चों के लिए डायपर खरीदने जाओ तो वह अच्छे क्वालिटी  और अच्छे ब्रांड का ही हो। अच्छे quality और अच्छे ब्रांड का डायपर baby के skin के लिए अच्छा रहेगा जिस पर हम भरोसा कर सकते है।
  • gelbase diapers :– अगर आप affort कर सकते है तो अपने शिशु के लिए gelbase diapers खरीदें। Gelbase diapers जो होते है उनकी absorbing capacity ज्यादा होती है।और वह बच्चों के skin के लिए भी काफ़ी अच्छे होते है।
  • Right size diapers :– नवजात शिशु को डायपर पहनाते वक्त जरूरी बातों का हमेशा ध्यान रखिए। जब भी आप अपने शिशु के लिए diapers खरीदे तब उसपर baby का weight और age mention होता है वह जरूर देखें। आप के शिशु के weight और age के according ही आपको diapers खरीदना चाहिए।
  • Tight और loose diapers का ध्यान :– जब भी आप अपने शिशु के लिए daipers खरीदें तो इस बात का ध्यान जरूर रखें कि वह आप के शिशु को ज्यादा tight या फिर ज्यादा loose ना हो। अगर नवजात शिशु को डायपर tight होंगे तो वह uncomfortable रहेगा। उसे अपने पैरों की movment करते वक्त परेशानी हो सकती है। और यदि diapers loose हो तो उस से लीकेज problem हो सकती है। इसलिए आपके शिशु के डायपर correct size केे होना जरूरी है।
  • सही तरीक़े से पहनाए डायपर :– नवजात शिशु को डायपर लगाते वक्त जरूर ध्यान रखें कि डायपर middle area में हो (diper area) ।अगर diaper सही तरीके से ना लगे तो उस से लीकेज problem हो सकती है। जिस कारण बच्चे के गीले होने के chances बढ़ जाएंगे।
  • Change diapers regularly :– सब से महत्वपूर्ण बात की शिशु के डायपर 2 से 3 घंटे में बदल दें। यदि आप इस बात को ध्यान रखेंगे तो आप के नवजात शिशु को डायपर से कभी भी कोई परेशानी नहीं होगी। लेकिन यदि आप ने इस बात पर ध्यान नहीं दिया तो आप के शिशु को कई problems का सामना करना पड़ सकता है। बच्चों को सब से ज्यादा rashes की problem इसी बात से होती है। Parents समय पर बच्चों के डायपर change नहीं करते।
  • diapers area की सफाई जरूरी :– जब भी आप डायपर change करें बच्चे के diaper area की अच्छे से सफाई जरूर करें।

अगर नवजात शिशु को डायपर पहनाते वक्त आप ऊपरी जरूरी बातों का ध्यान रखें तो आप के शिशु को कभी भी डायपर से कोई परेशानी नहीं होगी।

बच्चों के लिए सही डायपर का चुनाव कैसे करें?

indian मार्केट में कई तरह के diapers ब्रांड available है। जिन के अलग अलग features है। जो आप के बच्चे के according आप खरीद सकते है। हर बच्चे की एक unic identity होती है। जिस कारण उन में अलग अलग comfortable zone हो सकते है। जिस भी features में आप का बच्चा ज्यादा comfortable महसूस करें आप को उसी brand के diapers purchase करने चाहिए।

Indian मार्केट के कुछ diapers ब्रांड और उन के features

Huggies dry taped diapers

over night dryness इसे आप बच्चे को पूरी night डायपर पहना सकते हो। Air fresh materials जिस से diaper area की स्कीन को पर्याप्त air मिल सके। quick lock system जिसेे लीकेज की problem नहीं होती। Blue speed dry layers जो weightness को sock करता है। इसके एक pack का मूल्य है 70rs. जिस मे 5 diapers होते है।

huggies

CHECK AMAZON


Pampers baby dry

magic gel जिस की वजह से यह डायपर 10 घंटे तक dry रहता है। Baby lotion जो आप के शिशु के skin को protect करता है। Baby के skin को rashes से बचाता है। Soft like cotton जो डायपर को soft और काफ़ी मुलायम बनाता है। Reusable tape जिस की वजह से आप tape को attached और ditached बार बार कर सकते हैं। इस के एक पैक का मूल्य है 75rs. जिस मे 5 diapers होते है।

Pampers


Huggies wonder pant

over night dryness इसे आप बच्चे को पूरी night डायपर पहना सकते हो। Air fresh materials जिस से diaper area की स्कीन को पर्याप्त air मिल सके। quick lock system जिसेे लीकेज की problem नहीं होती। Blue speed dry layers जो weightness को sock करता है। Comfortable fit यह diaper बच्चों के लिए काफी comfortable होता है। इसके एक पैक का मूल्य है 60rs. जिस में 5 diapers available होते है।huggies wonder pants

CHECK AMAZON


Pampers baby dry pant

3 absorbing channels यह इस diapers का एक महत्वपूर्ण features है जो इसे सभी diapers से अलग बनाता है। जो liquid को equally spread करता है। Liquid को एक जगह नहीं जमने देता। इसलिए diaper एक जगह heavy नहीं होता है। जो parents नवजात शिशु को डायपर पहनाते है उनके लिए यह best feature है। Magic gel जिस की वजह से यह डायपर 12 घंटे तक dry रहता है। Breathable soft breath and cups जिस से बेबी की skin काफी fresh रहती है। Baby lotion जिस से बच्चे को skin rashes की problem नहीं होती।

Pampers all round

CHECK AMAZON


Himalaya total care baby pants

Anti rash shield जो skin rashes के problems से बच्चों को protect करता है। Elovera and yashoda bhasm जो बच्चों के skin को irritation और infection से बचाता है। Rapid absorption इस डायपर की absorption capacity बाकी के बाद से काफ़ी अच्छी है।Leakproof होने के वजह से लीकेज की problem बिल्कुल नहीं होती। Silky soft inner layer जो बच्चों के skin के लिए बहुत soft होता है। Breathable fabric जो air circulation के लिए काफी helpful होता है।

इस diaper में और एक feature है जो हमें costly diapers में दिखाई देता है। Wetness indicator जिस के कारण बार बार डायपर check करने की जरूरत नहीं होती। इस diaper के बीचोबीच एक yellow line होती है जो green होने पर diaper change करने का सिग्नल देती है। Price देखी जाए तो 130 rs में 9 diapers मिलते है।

Himalaya total care

CHECK AMAZON


Mamy poko pants (extra absorb diapers)

crisscross absorption sheet जो liquid को equally spread करता है। Liquid को एक जगह नहीं जमने देता। Prevents thai gaps के वजह से लीकेज की problem बिल्कुल नहीं होती और Baby के skin को rashes से बचाता है। Cotton like outer cover air circulation के लिए काफी helpful होता है। इसके एक pack जा मूल्य है 48 rs. जिस मे हमें 4 डायपर मिलते है।

Mamy poko pants

CHECK AMAZON


क्या सर्दियों के मौसम में बच्चों को डायपर पहनाना safe होता है?

कई सारे parents के मन में यह सवाल आता है कि सर्दियों के मौसम में जब बच्चे ज्यादा सुसु करते है तो क्या डायपर पहनाना ठीक होगा या नहीं? तो इसका जबाव यह है कि आप सर्दियों के मौसम में बेझिजक नवजात शिशु को डायपर पहना सकती है। बशर्ते आप को थोड़ा ज्यादा ध्यान रखने की आवश्यकता होती हैं। आपको डायपर को 2 से 3 घंटे के बाद डायपर को जरूर change करना है। गीले डायपर में बच्चों को rashes का खतरा बना रहता है।

बच्चे को डायपर पहनाने से पहले आपको बच्चे के डायपर area को अच्छे से cotton के कपड़े से साफ करना है और नारियल का तेल या rashes cream को अच्छे से लगाना है। जिस से डायपर और बच्चे के skin में friction को कम किया जा सकें।

क्या बच्चों को रोज डायपर पहनाना सही है?

यह एक महत्वपूर्ण सवाल है जो लगभग हर parents के मन में आता है। क्यों की डायपर से जुड़ी कुछ बातें हम कई दिनों से सुनते आते है। जैसे कि वजात शिशु को डायपर नहीं पहनना चाहिए, बच्चों को यदि रोजडायपर पहनाए तो उसे आदत हो जाएगी जी कारण चलना शुरू करते वक्त उसकी चाल बदल जाएगी। ऐसी काफी बातें हमें डायपर के बारे में सुनने को मिलती है।

जिस कारण हर parents के मन में डायपर के बारे में कहीं न कहीं एक डर सा लगा रहता है।लेकिन यह सब गलत बातें है। जो कई वर्षो से समाज में फैली हुई है। लेकिन हमें डायपर के लिए काफी कुछ चीजों का ध्यान रखना होता है। जो कई parents नहीं रख पाते। जैसे बच्चों के according डायपर का सही चुनाव करना। आप के बच्चे को कौनसा डायपर suit करता है। किस मे वह ज्यादा comfortable महसूस करता है। बच्चे को observe कर आपको यह सुनिश्चित करना होगा। जब भी आप अपने शिशु के लिए डायपर खरीदें तो एक नंबर ज्यादा वाला ही डायपर खरीदे
अगर आप अपने बच्चे के exact नंबर का डायपर खरीदते है तो वह उसे थोड़ा tide होगा जिस से rashes होने का खतरा बढ़ जाएगा। और आप का शिशु भी उस में comfortable महसूस नहीं करेगा। बच्चे का डायपर 2 से 3 घण्टों में जरूर change करना चाहिए यह काफी महत्वपूर्ण है। इस लिए हम इस बात को article में कई बार दोहरा चुकें है।यदि आप इन बातों का ध्यान रखें तो आप हर रोज बच्चे को डायपर पहना सकते हो।
नवजात शिशु को डायपर
नवजात शिशु को डायपर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *