बच्चों में अस्थमा, लक्षण और घरेलू उपचार | How to treat asthma in babies

 

बच्चों में अस्थमा
बच्चों में अस्थमा
बच्चों में अस्थमा, लक्षण और घरेलू उपचार | How to treat asthma in babies. वैसे तो हम जानते ही है की, अस्थमा एक श्वास की सबसे आम बीमारियों में से एक है और यह बीमारी बड़ों के साथ-साथ शिशुओं व बच्चों में भी देखि जा सकती है। लेकिन, उचित देखभाल, डॉक्टर्स की सलाह और उपचार से हम अस्थमा जैसी बीमारी का इलाज कर सकते हैं।
 जब एक शिशु नई दुनिया में कदम रखता है। तो उसकी प्रतिकार शक्ति किसी वयस्क से कम होती है। जिस के कारण एक  baby  अनेकों असामान्यताओं से गुजरता है। कई तरह से मौसमी बदलाव को एक दम से स्वीकार नही कर सकता। इस लिए कई तरह की viral infection, बैक्टीरियल इन्फेक्शन से परेशानी में आता है। जो किसी भी माता-पिता के लिए परेशानी का कारण होता है।

क्या आपने कभी चेक किया कि बच्चे को सांस लेने में कोई दिक्कत तो नहीं है? अगर किसी बच्चे को घरघराहट, खांसी या सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो यह अस्थमा के लक्षण हो सकते हैं। आइए इसके बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करते हैं।

 

आप जानते है की, शिशुओं में बड़े बच्चों और वयस्कों की तुलना में श्वसन-नलिकाएं छोटी होती हैं। जिस से वायरल संक्रमण, बलगम या श्वास लेने में होनेवाली परेशानी हम शिशुओं में देख सकते हैं। इसलिए, 12 महीने से कम उम्र के शिशुओं में अस्थमा अत्यधिक मुश्किल का सामना करना है।

अस्थमा क्या है?
अस्थमा एक ऐसी सांस संबंधी समस्या है, जिसमें एयरवे (airways) याने श्वसन नलिका जो हवा को फेफड़े तक पहुंचाता और निकालता है, उसमें सूजन आ जाती है। इस कारण सांस लेने में तकलीफ और अन्य कई परेशानियां होने लगती है। बच्चों और यहां तक कि बड़ों में भी अस्थमा काफी आम समस्या हो चुकी है।

बच्चों में अस्थमा कितना आम है?

अस्थमा 10 से 12 प्रतिशत बच्चों को प्रभावित कर सकता है और यह आंकड़े बढ़ते ही जा रहे हैं। आमतौर पर बच्चों को 5 वर्ष की आयु में अस्थमा होने की शुरुआत होती है। हालांकि, इसका निदान बाद में नहीं हो सकता है। अस्थमा बच्चों में एक क्रोनिक बीमारी का कारण बन चुका है।

क्या आपके बच्चे को अस्थमा है? बच्चों में श्वसन दर

श्वसन दर एक मिनट की समय सीमा के भीतर एक व्यक्ति द्वारा ली गई सांसों की औसतन संख्या है। यदि उसमें कोई असामान्यता दिखाई देती है, तो बच्चे को डॉक्टर के पास ले जाने की आवश्यकता होती है।  इस के लिए बच्चो के श्वसन दर  के बारें में जानना आप के लिए आवश्यक है। हम ने नीचे बच्चों के सामान्य श्वसन का table दिया है जिस से आप एक शिशु के सामान्य श्वसन दर को जान सकते है।

अनु.
क्र.
 बच्चों की आयुबच्चों में श्वसन दर
1.नवजात शिशु30-60 प्रति मिनट
2.1-12 महीने30-60 प्रति मिनट
3.1-2 वर्ष24-40 प्रति मिनट
4.3-5वर्ष22-34 प्रति मिनट
5.6-12 वर्ष18 -30 प्रति मिनट
6.13-17 वर्ष12-16 प्रति मिनट

बच्चों में अस्थमा के लक्षण

 शिशु के असामान्य श्वसन दर से हम शिशु के अस्थमा के बारे में जान सकते है ,इस के अलावा, अन्य लक्षण भी हैं, जो अस्थमा से पीड़ित शिशु की स्पष्टता कर सकते हैं। वे क्या हैं? यहां आपके अवलोकन के लिए उसी की एक सूची दी गई है।

  • अगर बच्चे को खांसी-जुकाम के दौरान बार-बार खांसी हो रही हो।
  • यदि आप अपने बच्चे की सांसों में सीटी की आवाज देखते हैं।
  • अगर बच्चे को सांस लेने में तकलीफ होती है। विशेष रूप से, यदि उसे सांस फूलने या भारी सांस लेने का सामना करना पड़ता है।
  • अगर बच्चे को सीने में जकड़न है।
  • अगर बच्चे को खाने या निगलने में परेशानी होती है।
  • यदि आप हल्के नीले रंग के नाखूनों को नोटिस करते हैं।

क्या कोई शिशु अस्थमा के साथ जन्म ले सकता है?

ऐसे कुछ लक्षण हैं जो यह बता सकते हैं कि बच्चे को अस्थमा है। एक सवाल यह भी उठता है कि क्या अस्थमा के साथ कोई बच्चा पैदा हो सकता है? तो हम भलीभांति यह समझ सकते है की सामान्य तौर पर कोई शिशु अस्थमा के साथ जन्म नही लेता लेकिन, यदि कोई बच्चा समय से पहले पैदा हुआ है, या मां को गर्भावस्था के दौरान कोई एलर्जी हो गई है, तो जन्म लेने वाले बच्चे को अस्थमा होने का खतरा बढ़ जाता है।

साथ ही अगर गर्भावस्था के दौरान मां को धूम्रपान की आदत है या खुद अस्थमा से पीड़ित है तो इससे पैदा होने वाले बच्चे को अस्थमा हो सकता है। लेकिन क्या सांस लेने की समस्या के अलावा अस्थमा बच्चे के जीवन को प्रभावित करता है? आइए थोड़ा और गहरा करते हैं।

अस्थमा के प्रभाव

अस्थमा बच्चे के स्वास्थ्य और मानसिक विकास को प्रभावित करता है। हाँ ऐसा होता है। कल्पना कीजिए कि एक बच्चा हँसी की सामान्य खुराक के बाद अचानक से लगातार खाँस रहा है। साधारण हँसी जो आमतौर पर खुशी का स्रोत होती है, अस्थमा के बच्चे के लिए परेशानी का सबब बन जाती है। यह स्पष्ट हो जाता है कि अस्थमा फेफड़ों को प्रभावित करता है, लेकिन यह प्रतिरक्षा प्रणाली और तंत्रिका तंत्र पर भी भारी पड़ता है।

अच्छी सांस लेने की कमी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत नहीं होने देती है। यह निश्चित रूप से एक बच्चे के दैनिक जीवन को प्रभावित करता है जब उसके लिए कोई गतिविधि सांस लेने की समस्या के कारण एक चुनौती के रूप में सामने आती है। और एक तरह से बच्चे के आत्मविश्वास को ठेस पहुंचाती है। लेकिन कोई अपने बच्चे को अपने जीवन के शुरुआती वर्षों में इस तरह की आलोचना का सामना करते नहीं देख सकता। और उस स्थिति में, अस्थमा से लड़ने की जरूरत है। पर कैसे? आइए उपचार, इलाज और कुछ प्राकृतिक घरेलू उपचारों की जाँच करें।

घरेलू नुस्खों से अस्थमा का इलाज

अस्थमा एक बच्चे के विकास के लिए एक झटके के रूप में कार्य करता है और बच्चे के लिए ऐसी चिकित्सा स्थितियों का सामना करना दुर्भाग्यपूर्ण है। यदि बच्चे को अस्थमा का निदान किया जाता है तो चिकित्सक को देखने की सलाह दी जाती है। लेकिन बताई गई दवाओं के साथ निम्नलिखित घरेलू उपाय भी इस विकार को शांत कर सकते हैं। ये कुछ प्राकृतिक घरेलू उपचार हैं जिन्हें अस्थमा के बच्चे की राहत के लिए आजमाना चाहिए।


लहसुन

लहसुन अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के साथ दमा की स्थिति में राहत दिला सकता है।


अदरक

छाती में जकड़न और जकड़न के लिए अदरक फिर से फायदेमंद होता है। 1 चम्मच पानी के साथ 1 ग्राम अदरक का का रस लेने से अस्थमा और श्वास सम्बन्धी रोगों का इलाज आसान है।


हल्दी

  हल्दी में एंटी-एलर्जी गुण होते हैं और यह अस्थमा से पीड़ित बच्चों के लिए सुरक्षित मानी जाती है।सालों से हल्दी का इस्तेमाल एक कारगर आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जा रहा है। शरीर के लिए हल्दी-दूध के फायदे लगभग हर किसी को पता हैं। अस्थमा में हल्दी-दूध का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है।


शहद

अस्थमा से बचाव करने के लिए शहद एक गुणकारी उपाय हो सकता है। यह तो सभी जानते हैं कि शहद स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है और दमा के मरीज को अगर शहद सुंघाया जाए, तो यह उनके लिए लाभकारी हो सकता है। शहद सूजन और अस्थमा के लक्षण को कम करने में मदद कर सकता है शहद गले में जलन को शांत करता है। दमा के बच्चे राहत के लिए शहद और गर्म पानी के मिश्रण का सेवन कर सकते हैं।


बच्चों में अस्थमा के लक्षणों को कम करने के सुझाव

एक माता-पिता के रूप में आपको हमेशा एक चिंता रहती होगी कि अस्थमा के प्रभाव को कैसे कम किया जा सकता है या आप बच्चों में अस्थमा के लक्षणों को कम करने के लिए क्या उपाय अपना सकती हैं। चिंता न करें, यहाँ आपकी समस्या के कुछ संभावित समाधान हैं:

  • बच्चे को अस्थमा का प्रभाव छोड़ने वाली चीजों से दूर रखें, जैसे धुंआ, धूल, गंदगी और इत्यादि।
  • बच्चे के कमरे को साफ और धूल रहित रखें।
  • बच्चे को ऐसे खिलौने दें, जिन्हें आप नियमित रूप से धो सकें और उन्हें सप्ताह में एक बार जरूर धोएं।
  • अपने बच्चे को पालतू जानवरों से दूर रखें।
  • आवश्यक होने पर एयर प्यूरीफायर और ह्यूमिडिफायर का प्रयोग करें।
  • बच्चे को ऐसा भोजन न दें जिससे एलर्जी हो सकती है।

ऊपर दिए हुए सभी सुझाव आपके बच्चे की मदद कर सकते हैं। हालांकि यदि आप अपने बच्चे में अस्थमा के लक्षण देखते हैं तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए

अगर आपको नीचे बताए गए लक्षण अपने बच्चे में दिखें, तो बिना देर करते हुए डॉक्टर से संपर्क करें।

  1. बच्चे को सांस लेने में तकलीफ।
  2. चेहरे और होंठ का रंग बदलना या नीला पड़ना।
  3. लगातार पसीना आना।
  4. अगर आपका बच्चा इनहेलर या तुरंत असर करने वाली दवाइयों पर प्रतिक्रिया न दे पा रहा हो।
  5. दवाइयां असर न कर रही हों।
  6. अगर आपका बच्चा ठीक से कुछ बोल नहीं पा रहा हो।
  7. अगर आपके बच्चे को सांस लेते वक्त लगातार घरघराहट हो रही हो।

आप के लिए जरुरी...
दोस्तों,  इस आर्टिकल में आपको बच्चों में अस्थमा के लक्षण और उन्हें रोकने की सभी जरुरी जानकारी दी गयी है, जो आप के शिशु के लिए और उसे अस्थमा जैसी बिमारियों । अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप ऊपर बताई गई जानकारी पर कितना ध्यान देते हैं। अपने बच्चे को अस्थमा होने से या उसके जोखिम को कम करने के लिए पहले से ही सावधानियां बरतें, क्योंकि वक्त रहते ध्यान न दिया जाए, तो आगे चलकर यह आपके शिशु के लिए मुसीबत बन सकता है।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment