प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए ? गर्भावस्था में सोने के लिए important tips

Pregnancy के दौरान आवश्यक नींद के टिप्स जानना एक प्रेग्नेंट महिला के लिए काफी जरुरी है, प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए ? गर्भावस्था में सोने का सही तरीका क्या है? गर्भावस्था में एक महिला को कितनी नींद लेनी चाहिए? और यह क्यों जरुरी है? प्रेगनेंसी के दौरान पेट के बल सोने से क्या-क्या दिक्कत हो सकती है?  ऐसे सभी सवालों के जवाब हम इस आर्टिकल में लायें है जो प्रेगनेंसी के दौरान आप के लिए महत्वपूर्ण साबित होते है।

किस भी महिला के लिए pregnancy का सफ़र आसन तो नही होता, लेकिन एक नए जीवन को जन्म देने का अनुभव एक महिला और घर के सभी सदस्यों के लिए काफी सुखद होता है, इसलिए जरुरी है, की प्रेगनेंसी के दरम्यान प्रेग्नेंट महिला की अच्छे से care करना घर के सभी सदस्यों की जिम्मेदारी होती है।

एक महिला के लिए pregnancy का समय शारीरिक और मानसिक बदलाव का होता है जिस में, गर्भवती को थकान, जी-मिचलाना, बेचैनी व शरीर में दर्द जैसी कई शारीरिक समस्याओं के साथ कई तरह से मानसिक बदलाव का सामना करना पड़ता है।

आप सभी को पता है की, गर्भावस्था के दौरान प्रेगनेंट महिला को अपने खानपान और सेहत से लेकर चलने-फ़िरने, उठने-बैठने तक का विशेष ध्यान रखना होता है, इसी तरह प्रेगनेंट महिला को अपने सोने का भी ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है। क्यों की प्रेगनेंसी में शारीरिक बदलाव के कारण महिलाएं ठीक से सो नही पाती या जो महिलाएं पहिली बार pregnancy का अनुभव कर रही है उन्हें यह पता ही नही होता की प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए ? और सोते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहियें?

इसलिए आप के लिए यह जानना बेहद आवश्यक है की प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए ? अन्यथा प्रेगनेंसी के दौरान गलत तरीके से सोना आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है और आपके होने वाले बच्चे के विकास में भी बाधा उत्पन्न कर सकता है।

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए?
प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए?

प्रेगनेंसी के दौरान सोने में आनेवाली मुश्किलें 

अक्सर देखा जाता है की प्रेग्नेंसी में महिलाओं को थकान, जी मिचलाना, बेचैनी और शरीर में दर्द जैसी तकलीफें होती हैं जो की प्रेगनेंसी के आम परेशानियाँ है। लेकिन इन परेशानियों से गर्भवती महिलाओं को ठीक तरह से सोने में काफी दिक्कत आती हैं । प्रेग्नेंसी के दौरान रात में बार – बार यूरिन आने जैसा लगता है , सांस लेने में दिक्कत आती है । इस कारण दिमाग एक्टिव रहता है और प्रेग्नेंट महिला को नींद नहीं आती।

डॉक्टर प्रेग्नेंट महिलाओं को पेट के बल सोने को मना करते हैं ताकि भ्रूण पर किसी तरह का दबाव न आएं । करवट लेने पर भी गर्भवती महिला को अजीब सा लगता है । जिन महिलाओं को पेट के बल सोने की आदत होती हैं , प्रेग्नेंसी में उन्हें सही तरह से सोने में भी दिक्कत आती हैं।

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? क्या है सही तरीका?

सब से पहले आप को यह जानना आवश्यक है की गर्भावस्था में कैसे सोना चाहियें? गर्भावस्था के दौरान पीठ के बल या पेट के बल लेटना प्रेग्नेंट महिला और उस के गर्भ में पल रहे शिशु के लिए सही और सुरक्षित नही है। खास कर जो महिलाएं पहिली बार प्रेगनेंसी का अनुभव कर रही है, उन्हें इस बात पर ख़ासा ध्यान देने की जरूरत होती है।

Pregnancy के दौरान महिला को बायीं तरफ करवट लेकर सोना चाहियें।  प्रेगनेंसी के दौरान सोने के लिए यह एक सबसे बेस्ट पोजिशन होती है। इस दौरान डॉक्टर भी आपको बायीं करवट लेकर ही सोने की सलाह देते हैं। एक अध्ययन के अनुसार गर्भवती महिला को बायीं तरफ करवट लेकर सोने के कई सारे फायदे होते है।

  • बायीं तरफ लेटने से पेट में पल रहे शिशु को प्लेसेंटा के जरिए पर्याप्त ऑक्सीजन व पोषक तत्व मिल पाते हैं। रक्त का प्रवाह भी सामान्य रहता है, जो एक महिला और उस के पेट में पल रहे शिशु के लिए फायदेमंद साबित होता है।
  • पेट में शिशु के विकास के लिए जरुरी होता है माँ के शरीर में रक्तप्रवाह का सुचारू रूप से संचरण होना। बायीं करवट पर सोने से दाई तरह जो लीवर होता है उस पर गर्भाशय का प्रेशर नही पड़ता और शरीर में लीवर सुचारू रूप से काम करता है।
  • बायीं ओर करवट लेकर सोने से आपके गर्भनाल से आपके शिशु को सभी पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। 
  • गर्भावस्था में बायीं ओर सोने से आपके शरीर के अंदर मौजूद विषाक्त तत्व भी बाहर निकल जाते हैं और आप कई तरह के संक्रमण आदि से बच जाती हैं।

सोते समय आप बायीं तरफ सोते हुयें अपने घुटनों को मोड़ कर भी सो सकते हैं । घुटनों को मोड़कर सोते समय आपको काफी तकलीफ हो सकती है लेकिन यह पोजीशन आपके और शिशु के लिए फायदेमंद साबित है। तकलीफ को कम करने के लिए आप चाहें तो अपने दोनों टांगों के बीच में एक मुलायम तकिया भी रख सकती हैं । ऐसा करने से आपको आराम मिलेगा । कुल मिलाकर , आपको सोते समय अपने साथ साथ अपने गर्भ में पल रहे नन्हे शिशु की सुरक्षा और स्वस्थ का भी ख्याल रखना है । प्रेग्नेंसी में पहली तिमाही में पीठ के बल लेट सकते है लेकिन ज्यादा लंबे समय तक पीठ के बल लेटना ठीक नहीं है।

प्रेगनेंसी में बायीं तरह लेटना जरुरी तो है लेकिन सच्चाई यह भी है कोई भी व्यक्ति लम्बे समय तक एक ही करवट पर नही सो सकता ऐसे में आप बीच-बीच में थोड़ी देर के लिए अपनी करवट बदलकर सो सकते हैं लेकिन आप की कोशिश होनी चाहियें कि ज्यादातर आप बायीं करवट लेकर ही सोएं।

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए
प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए

प्रेगनेंसी में कैसे नही सोना चाहिए?

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? यह तो आप ने जान लिया, अब आप को प्रेगनेंसी में कैसे नही सोना चाहियें? और उस के पीछे क्या कारण है? यह जानना भी आप के लिए आवश्यक है। खास कर जो महिलाएं पहिला बार गर्भवती होती है, वह इन बातों से अनभिज्ञ हो सकती है, और सुनी सुने बातों पर ज्यादा ध्यान देती है, ऐसे में आप को विशेषज्ञों की राय को बेहतर तरीके से समझना चाहियें।

प्रेगनेंसी में पीठ के बल नही सोना चाहिए

प्रेग्नेंसी में पहली तिमाही में पीठ के बल लेट सकते है लेकिन ज्यादा लंबे समय तक पीठ के बल लेटना ठीक नहीं है । ज्यादा देर पीठ के बल लेटने से यूटेरस से पीठ की मसल्स , रीढ़ की हड्डी पर दबाव आता है , जिससे बच्चे तक ठीक से ब्लड सर्कुलेशन नहीं हो पाता । पीठ के बल लेटने से मसल्स में दर्द और सूजन हो सकती है। इस लिए जरुरी है आप को पेट के बल तो हरगिज नहीं सोना चाहिए।

दायी तरफ के करवट पर ना सोयें 

हमारे शरीर में लिवर और एब्डोमन शरीर की दायीं तरफ होता है, और प्रेगनेंसी के दौरान पेट में पल रहे शिशु के विकास के लिए ज़रूरी है कि आपका लिवर सही और नॉर्मल तरीके से काम करे। यदि आप दायी करवट पर सोते है तो यक़ीनन गर्भाशय का भार आप के लिवर और एब्डोमन आएगा जिस से वह सुचारू रूप से काम नही कर पायेंगे। जो पेट में पल रहे शिशु के विकास के लिए सब से बड़ी बाधा साबित हो सकता है।

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए
प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए

प्रेगनेंसी के दौरान अच्छी नींद के लिए कुछ टिप्स 

  1. प्रेगनेंसी में सोते समय अधिक तकिये का उपयोग करें, बायीं करवट पर सोते  समय आप पेट के निचे और दोनों पैरों के बिच में तकिये लेकर सो सकते है जिस से आप के मांसपेशियों को भी आराम मिलता है, और आप को भी अच्छी नींद मिल सकती है।
  2. सोने के दों घंटें पहले आप को हल्का भोजन करना है, ज्यादा मसाले वाला भोजन ना करें, भोजन के बाद टहलने से भोजन का पाचन अच्छे से हो जाता है, सोने के पहले आप दूध या हर्बल चाय का सेवन कर सकते है। जो आप को अच्छी नींद के लिए मदद करता है।
  3. सोने से पहले आप अपने हाथों, पैरों, गर्दन व सिर की मालिश भी करवा सकते हैं। इससे मांसपेशियों में आया तनाव कम होता है और आराम मिलता है। और अप को अच्छी नींद आ सकती है।
  4. जिस कमरे में आप सोते है, वहां साफ-सफाई और शांत माहौल होना काफी जरुरी है, सोते हुए आप हलकसा म्यूजिक भी सुन सकती है।
  5. सोने से पहले गर्भवती महिला हल्के से गहरी और लंबी सांसें भी ले सकती है। जिससे ह्रदय की गति सामान्य होती है, मांसपेशियों को आराम मिलता है औरअच्छी नींद आने लगती है।

सम्बन्धित सवाल – FAQ

सवाल: प्रेगनेंसी में कैसे नही सोना चाहिए?

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? यह तो आप ने जान लिया, अब आप को प्रेगनेंसी में कैसे नही सोना चाहियें? इस सवाल को भी जानना आवश्यक है। प्रेगनेंसी में पीठ के बल हरगिज नही सोना चाहिए, खास कर  पहिली तिमाही के उपरांत।  ज्यादा देर पीठ के बल लेटने से यूटेरस से पीठ की मसल्स , रीढ़ की हड्डी पर दबाव आता है , जिससे बच्चे तक ठीक से ब्लड सर्कुलेशन नहीं हो पाता । पीठ के बल लेटने से मसल्स में दर्द और सूजन हो सकती है।


सवाल: प्रेगनेंसी में कौन सी करवट लेकर सोना चाहिए?

Pregnancy के दौरान महिला को बायीं तरफ करवट लेकर सोना चाहियें।  प्रेगनेंसी के दौरान सोने के लिए यह एक सबसे बेस्ट पोजिशन होती है। Pregnancy के दौरान महिला को बायीं तरफ करवट पर सोने के कई फायदे है जो उपरोक्त आर्टिकल में बताएं गये है।


सवाल: प्रेगनेंसी में कितने देर सोना चाहिए?

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? के साथ साथ प्रेगनेंसी में कितने देर सोना चाहिए यह जानना भी जरुरी है , पेट में पल रहे शिशु के विकास के लिए माँ को काफी नींद लेना  आवश्यक है। गर्भवती महिला को गर्भावस्था के दौरान रात के समय कम से कम 8 घंटे की नींद अवश्य पूरी करनी चाहिए। इसके अलावा दिन में भी दो घंटेकी नींद ले सकती हैं।


सवाल: कम नींद से प्रेगनेंसी पर क्या असर पड़ता है?

प्रेगनेंसी में पर्याप्त नींद आवश्यक है अगर कोई प्रेग्नेंट महिला पर्याप्त नींद नहीं लेती है तो बच्चे पर इसका असर पड़ता है। बच्चा मां के जरिए ही ऑक्सीजन की पूर्ति करता है। अगर प्रेग्नेंसी में नींद पूरी न हो तो प्लेसेंटा तक ठीक तरह से ब्लड सप्लाय नहीं हो पायेगा। इससे बच्चे की ह्रदय गति कम हो जाती है। साथ ही साथ खून की कमी भी हो जाती है। जब प्रेग्नेंट महिला सो रही होती है तब बच्चे को ब्लड और ऑक्सीजन का सप्लाय अच्छे से हो पाता है।


संबोधन 

प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? के इस आर्टिकल में हम ने प्रेग्नेंट महिला के सोने सम्बन्धी सभी जरुरी जानकारी को साझा किया है, एक प्रेग्नेंट महिला के लिए अच्छी नींद लेना ज्यादा जरूरी है, क्योंकि उसके पर्याप्त नींद लेने से गर्भ में पल रहे शिशु का विकास बेहतर तरीके से होता है। हमें उम्मीद है आपको इसका महत्व समझ आ गया होगा और जो महिलाएं गर्भवती हैं, उन्हें इसके जरिए प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? जैसे सवालों का जवाब और अपनी नींद से जुड़ी समस्याओं का हल मिल गया होगा। इस लेख को उन महिलाओं के साथ जरूर शेयर करें, जो गर्भवती हैं।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment