pregnant kaise hote hain in hindi में जाने प्रेग्नेंट होने का उपाय

pregnant kaise hote hain in hindi (प्रेग्नंट कैसे होते है इन हिंदी )  एक ऐसा टॉपिक  जो नवविवाहित महिलाओं के लिए तथा नवविवाहित जोड़ों के लिए काफी उत्सुकता से भरा है। इसीलिए आये दिन कई महिलाएं एवं जानकारी के उत्सुक व्यक्ति इन्टरनेट पर pregnant kaise hote h in hindi, how to get pregnant fast, जल्दी गर्भवती होने के उपाय क्या है? या जल्दी गर्भवती होने के घरेलु उपाय क्या है?, प्रेग्नेंट कैसे होते है हिंदी में? पीरियड के कितने दिन बाद प्रेग्नेंट होते है? गर्भवती होने के लिए पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए? प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या होते है? ऐसे कई सारे विषयों की खोज करते है।

इसलिए हम ने कई सारे स्त्रोतों का अध्ययन कर के इस विषयसूची से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी आप के सामने प्रस्तुत की है। pregnant kaise hote hain in hindi के इस आर्टिकल में हम प्रेग्नेंट कैसे होते है? जल्दी प्रेग्नेंट होने के उपाय क्या है?गर्भ ठहरने की विधि क्या है?  जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए हमारे दिनचर्या में क्या बदलाव होना जरुरी है? किन बातों का हमें ध्यान रखना है? और साथ ही जल्दी गर्भवती होने के लिए क्या-क्या घरेलु उपाय है? पीरियड के कितने दिन बाद प्रेग्नेंट होते है? इन सभी बातों को विस्तार से जानेंगे।

pregnant kaise hote hain in hindi
pregnant kaise hote hain in hindi

 

प्रेग्नेंट कैसे होते है? pregnant kaise hote hain in hindi

गर्भ ठहरने की विधि को ही प्रेग्नेंट होना कहते है। किसी भी महिला का माहवारी याने पीरियड  का समय ६ से 7 दिन तक चलता है, जिस में छठें दिन रक्तस्त्राव बंद हो जाता है, पीरियड्स के बाद 7 से 14 दिनों का समय महिलाओं में अंडोत्‍सर्ग की प्रक्रिया शुरू होती है। 

पीरियड के बाद 8 से 14 दिनों के  दौरान महिला सम्भोग्क्रिया का आनंद लेती है तो अपने पार्टनर द्वारा छोड़ा गया Sperm याने शुक्राणु जब योनि से गर्भाशय ग्रीवा और गर्भाशय के माध्यम से फैलोपियन ट्यूब से गुजरता है और अंडाशय तक पहुँच कर अंडे का निषेचन करता है, (जिसे युग्मज याने जोईगोट कहाँ जाता है) तब अंडा अंडाशय में अपने कूप से टूट कर फैलोपियन ट्यूब में चला जाता है।

एक बार जब एक शुक्राणु डिंब, या अंडे में प्रवेश करने के लिए बाहरी झिल्ली से होकर गुजरता है, तो उनकी आनुवंशिक सामग्री एक नई कोशिका बनाने के लिए मिलती है जो जल्द ही तेजी से विभाजित होने लगती है। जिस से गर्भाशय में एक भ्रूण के विकास की प्रक्रिया आरंभ हो जाती है। और यही है प्रेग्नेंट कैसे किया जाता है? के इस सवाल का विस्तारित जवाब।

आप सभी को पता है, की गर्भधारण से लेकर शिशु के जन्म तक के समय को pregnancy periods (प्रेगनेंसी पीरियड्स) कहाँ जाता है, जो 9 माह और 7 दिन याने 267 दिनों का होता है। 

पीरियड के बाद प्रेग्नेंट कब और कैसे होता है?

एक सरल सवाल जो कई लोगों के मन में कई तरह से confusion की स्थिति निर्माण करता है। पीरियड के कितने दिन बाद प्रेग्नेंट कब और कैसे होता है?  या कई लोग या महिलायें प्रेग्नेंट होने के लिए पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए? इस सवाल की भी कई तरह से खोज करते है। तो आओ जानते है, की पीरियड के बाद प्रेग्नेंट कब और कैसे होता है? और प्रेग्नेंट होने के लिए सम्बन्ध बनाने का सही समय क्या है?

सभी को पता है की महिलाओं का माहवारी का समय 6 से 7 दिनों का होता है। और माहवारी याने पीरियड के बाद 7 से 14 दिनों का समय Ovulation याने अंडोत्‍सर्ग की प्रक्रिया का होता है, ओवरी से अंडे बाहर आते है जो 12 से 14 घंटे ही एक्टिव रहते है, यदि सही अनुमान से इन 12 से 14 घंटों के बिच यदि सम्भोग क्रिया की जाए तो शुक्राणु अंडाशय तक पहुँच कर अंडे को fertilised (निषेचन) कर देता है, जिस से गर्भ ठहरता है, जिसे गर्भ ठहरने की विधि कहाँ जाता है।

इस तरह से हम जान सकते है की पीरियड के 8 से 14 दिनों के बाद प्रेग्नेंट होते है। साथ ही यह भी जान सकते है की प्रेगनेंसी के लिए पीरियड के बाद 8 से 14 दिनों के भीतर ही सम्बन्ध बनाने चाहिए।

जल्दी प्रेग्नेंट कैसे होते है? pregnant kaise hote hain in hindi

वैवाहिक जीवन में माँ बनने का सुख हर महिला का एक बेहतरीन सपना होता है, लेकिन सही जानकारी ना मिल पाने से कई महिलाएं इस सुख से सालों तक वंचित रहती है। अपने माँ बनने के सपने को साकार करना जिस के लिए जल्द से जल्द प्रेग्नेंट होने (how to get pregnant fast) की संभावनाओं को बढाने के लिए आप को कई तरह की बातों पर ध्यान देना होता है, अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करने की जरूरत होती है और साथ ही आप कुछ ऐसे घरेलु उपायों को भी आजमा सकते है, इन सभी बातों की चर्चा हम इस आर्टिकल में करेंगे।

Ovulation पर ध्यान दें

जल्द से जल्द गर्भवती (प्रेग्नेंट) होने के लिए महिलाओं को अपने ovulation पर ध्यान देने की जरूरत होती है। उपरोक्त जानकारी में हम ने आप को स्पष्ट रूप से बताया है की माहवारी याने पीरियड के बाद 7 से 14 दिनों का समय Ovulation याने अंडोत्‍सर्ग की प्रक्रिया का होता है, ओवरी से अंडे बाहर आते है जो 12 से 14 घंटे ही एक्टिव रहते है, यदि सही अनुमान से इन 12 से 14 घंटों के बिच यदि सम्भोग क्रिया की जाए तो शुक्राणु अंडाशय तक पहुँच कर अंडे को fertilised (निषेचन) कर देते है, जिस से जल्दी ही गर्भ ठहरता है। 

Ovulation को चेक करने के लिए आप कुछ उपायों को भी अजमा सकते है,

आज हम इतने एडवांस हो गये है की हमें Ovulation की जानकारी प्राप्त करने के लिए Ovulation Prediction Kits बाजारों में आसानी से  उपलब्ध हो जायेगी, जिससे हम ovulation का सही समय जान सकते है। किट द्वारा Positive Result प्राप्त होने के बाद के 3 दिन सम्भोग क्रिया के लिए एकदम सही दिन हैं क्योंकि इन 3 दिनों में प्रेग्नेंट होने के 60-70% Chances होते हैं।

Ovulation के समय महिलाओं के शरीर के तापमान  में मामूली बढ़ोतरी देखि जा सकती है। इस तापमान  बढ़ने के 2-3 दिनों में जल्दी प्रेग्नेंट होने के अवसर बढ़ जाते है।

Ovulation के दिन से 1-2 दिन पहले साफ, गीला और चिप-चिपा Vaginal Secretion होता है और उसका चिप-चिपापन थोडा thik लगेगा तो जान ले कि बच्चा पैदा करने के लिए ये सम्भोग क्रिया का यह सबसे बेहतर समय है।

गर्भनिरोधक औषधियों का सेवन बंद करें

यदि आप किसी भी तरह से गर्भनिरोधक गोलियों अथवा औषधियों का सेवन करती है तो तुरंत इसे बंद कर देना चाहिए। प्रेगनेंसी को सही तरह से प्लान करने के लिए आप को 3 से 4 महीने के पहले गर्भनिरोधक औषधियों का सेवन बंद कर देना चाहिए। क्यों की प्रेगनेंट होने के लिए आपके पीरियड्स नॉर्मल होने चाहिए। गर्भनिरोधक औषधियों को बंद करने पर महिलाओं का मासिक चक्र लगभग 3 महीने तक अनियमित हो सकता है। 

हेल्थी फ़ूड ही खाएं 

शुक्राणु द्वारा अंडे का निषेचन ही प्रेग्नेंट होना कहलाता है, इसलिए जरुरी है की निषेचन (Fertility )को बढाने के लिए स्वस्थ आहार का सेवन करें। तरह-तरह के स्वस्थ स्वस्थ का सेवन करने से Conceive के लिए शरीर अच्छी तरीके से तैयार होता है। इससे शरीर में कई प्रकार की विटामिन और मिनरल्स की कमी दूर होती है और महिलाओं को ताकत भी मिलती है।

गर्भावस्था के लिए भोजन जैसे फल, हरी सब्जियां, प्रोटीन का माध्यम, अनाज और दूध से बने उत्पाद स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी होते हैं। Folic Acid के बजाये अगर कोई महिला चाहे तो हरी सब्जियां भी खा सकती है जैसे ब्रोकोली, ब्रेड और अनाज, सेम, खट्टे फल, और संतरे के रस का भी सेवन कर सकते है।

यौन सम्बन्ध में कुछ बातों का ध्यान रखें

प्रेग्नेंट होने का उपाय के तौर पर हमें सही समय पर और सही तरीकें से अपने पार्टनर के साथ यौनसंबंध बनाना काफी महत्वपूर्ण होता है, जैसे, यौन सम्बन्ध में दोनों की चरमसंतुष्टि काफी मायने रखती है। दोनों की चरमसंतुष्टि पर योनिमुख खुला रहता है, और सही समय पर अच्छी तरह से शुक्राणु का प्रवेश होता है, जो जल्दी प्रेग्नेंट होने के चांसेस को बढ़ा देता है।

यौनसंबंध स्थापित होने के बाद कुछ समय लेटे रहना काफी महत्वपूर्ण होता है, अगर आप सम्बन्ध बनाने के बाद कुछ देर लेटे रहते है तो शुक्राणु शरीर में गुरुत्वबल के साथ आसानी से कार्य करते है। 

सम्बन्ध बनाने की पोजीशन भी कुछ हद तक जल्दी से प्रेग्नेंट होने के लिए जिम्मेदार होती है। इसलिए मिशनरी पोजीशन काफी हद तक जल्दी प्रेगनेंसी के लिए जरुरी है। यह सामान्य तौर पर प्रेग्नेंट होने का उपाय है।

अपना वजन ना बढने दें 

नवविवाहित महिला का बढा हुआ वजन प्रेगनेंसी या जल्दी गर्भवती होने पर असर दल सकती है। अभ्यास के दौरान यह पता चला है की वजन बढने के चलते कई महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं हो पाती क्योंकि ओवरवेट के चलते उनके फेलोपियन ट्यूब और ओवरी के बंद होने की आशंका बढ़ जाती है। 

खुशनुमा वातावरण में रहें 

जल्दी प्रेग्नेंट होना काफी हद तक फीलिंग्स पर भी निर्भर करता है, इसलिए आप को जरूरत होती है की अपने आसपास के वातावरण को खुशनुमा बनाएं रखें। इसलिए आप को अपने घर में अच्छे और सुंदर चित्र लगाने चाहिए, साथ ही घर में प्रसन्नता के लिए सुन्दर-सुंदर पुष्पों के पौधे लगाने चाहिए।

खुश और प्रसन्न रहने के लिए आप को शांत वातावरण का होने बहुत ही आवश्यक है इसलिए कुछ दिनों के लिए किसी शांत और सुंदर जगह में घूमने जाएँ। आप चाहें तो अपने मन को शांत करने के लिए रिलैक्सिंग म्यूजिक और योगाभ्यास भी कर सकते हैं।

जल्दी गर्भवती होने के घरेलु उपाय 

जल्दी गर्भवती होने के लिए आप को कई तरह की बातों का ध्यान रखना जरुरी होता है, इस के लिए आप जल्दी गर्भवती होने के घरेलु उपाय भी कर सकते है, जैसे 

  • सही मात्रा में पानी पिएं
  • गर्भधारण की सही उम्र 
  • चीनी से परहेज
  • धूम्रपान ना करे
  • खाने में लौंग का प्रयोग करें

सही मात्रा में पानी पिएं

खुद को हाइड्रेट रखने के लिए पानी का सेवन करना आवश्यक होता है, पर्याप्त मात्रा में पानी पीना गर्भाशय को स्वस्थ रखने में मदद करता है। इससे सर्वाइकल म्यूकस को बढ़ने में भी मदद मिलती है। शुक्राणु गाढ़े ग्रीवा बलगम से अच्छी तरह जुड़ पाते है। जिससे जल्दी प्रेग्नेंट होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

गर्भधारण की सही उम्र 

यदि सही उम्र में गर्भधारण की योजना बनाई जाए तो यक़ीनन जल्दी ही प्रेगनेंसी हो सकती है। विशेषज्ञों की माने तो 18 से 28 साल की उम्र को गर्भधारण के लिए सही होती है क्योंकि फर्टिलाइजेशन इस उम्र में ही अधिक होता है।

चीनी से परहेज

चीनी में कार्बोहायड्रेट की मात्रा अधिक होती है, और डॉक्टर्स की माने तो अगर आवश्यकता से ज्यादा चीनी खायी जाये तो शरीर में इंसुलिन का स्तर बाधित होने लगता है। कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार से शरीर में इंसुलिन के स्तर को बाधा पहुंचाता है जो गर्भधारण करने में समस्या खड़ी कर सकता है।

धूम्रपान ना करे

धूम्रपान करना ना सिर्फ महिला बल्कि पुरुषों के लिए भी बहुत ही बुरा है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों के प्रजनन में बाधा डाल सकता है। सिगरेट में पाया जाने वाला Nicotine और Carbon Monoxide महिलाओं के Egg Production को कम कर देता है और पुरुषों के Sperm Production में भी बाधा पहुचाता है।

खाने में लौंग का प्रयोग करें 

लौंग फर्टिलिटी बढ़ाने में मदद करती है। इसमें पाया जाने वाला फोलिक एसिड ओर जिंक एंटीऑक्सिडेंट महिलाओं और पुरुष दोनों में फर्टिलिटी को बेहतर बनाते है।

टिप :- प्रेग्नेंट कैसे होते है – जाने web story के माध्यम से 

प्रेग्नेंट होने के लक्षण क्या होते है?

pregnant kaise hote hain in hindi के इस आर्टिकल में हम कुछ प्रेग्नंट होने के लक्षण जानेंगे। 

प्रेग्नेंट होने के बाद महिलओं में कुछ लक्षण पाए जाते है जिस से आसानी से पता लगे जा सकता है की कोई महिला प्रेग्नेंट है या नही, लेकिन हमारे द्वारा बताएं गये सभी प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण सभी महिलाओं में दिखना नामुमकिन है। इस में से हर महिलाओं में कुछ लक्षण हम जरुर देख सकते है।

  1. पीरियड्स मिस होना 
  2. इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग
  3. वेजाइनल डिस्चार्ज 
  4. उल्टी या मितली आना
  5. ब्रेस्ट हैवी होना
  6. निप्पल का रंग डार्क होना 
  7. बार-बार टॉयलेट जाना
  8. किसी चीज़ के प्रति तीव्र इच्छा
  9. मूड़ स्विंग होना
  10. कब्ज की शिकायत होना
  11. शरीर का तापमान बढ़ना
  12. थकान, सिरदर्द और चक्कर आना
  13. पीठ दर्द होना
  14. मुँह का स्वाद बदलना
  15. सांस लेने में दिक्कत होना

सम्बन्धित सवाल – FAQ

प्रश्न :- गर्भ ठहरने की देशी दवा क्या है?

उत्तर :- लौंग, लौंग में काफी मात्रा में फोलिक एसिड और जिंक जैसे एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं जो महिलाओं में फर्टिलिटी को सुधारने का काम करते हैं। इससे महिलाओं को नैचुरली प्रेगनेंट होने में मदद मिलती है।


प्रश्न :- पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिएं?

उत्तर :- माहवारी याने पीरियड के बाद 7 से 14 दिनों का समय Ovulation याने अंडोत्‍सर्ग की प्रक्रिया का होता है, ओवरी से अंडे बाहर आते है जो 12 से 14 घंटे ही एक्टिव रहते है, यदि सही अनुमान से इन 12 से 14 घंटों के बिच यदि सम्भोग क्रिया की जाए तो शुक्राणु अंडाशय तक पहुँच कर अंडे को fertilised (निषेचन) कर देता है, जिस से गर्भ ठहरता है, प्रेग्नेंट होते है।


प्रश्न :- क्या प्रेग्नेंट होने के बाद पीरियड आता है?

उत्तर :- पीरियड नही आना ही एक प्रेग्नेंट होने क एक संकेत होता है,प्रेगनेंसी में पीरियड नही आते क्यों की  प्रेगनेंट होने पर ओवुलेशन नहीं होता है। 


प्रश्न :- पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे?

उत्तर:- यदि आप प्रेगनेंसी का सही से पता लगाना चाहते हैं तब आप पीरियड के 7 दिन बाद में प्रेगनेंसी किट के जरिए प्रेगनेंसी का पता लगा सकते हैं।


संबोधन 

pregnant kaise hote hain in hindi के इस आर्टिकल में हम ने आप के लिए प्रेग्नेंट कैसे होते है? और जल्दी प्रेग्नेंट होने का उपाय क्या है? के साथ सभी जरुरी बातों को शामिल किया है। हमे आशा है की हमारे इस आर्टिकल द्वारा आप को आप के सभी सवालों के जवाब मिल गये होंगे।

 

Sharing Is Caring:

3 thoughts on “pregnant kaise hote hain in hindi में जाने प्रेग्नेंट होने का उपाय”

  1. आप के द्वारा दी गयी जानकारी विवाहित जोडों के लिये बहुत महत्व पूर्ण है ।धन्यवाद

    Reply
  2. आपके द्वारा दी गई जानकारी विवाहित जोड़ों के लिए वरदान साबित हो सकती है।
    धन्यवाद।

    Reply

Leave a Comment